Bharat News Today

नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड आर्ट्स में नई शिक्षा नीति और क्लास रूम मैनेजमेन्ट पर दो दिवसीय कार्यशाला का हुआ आयोजन

इटावा नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड आर्ट्स में नई शिक्षा नीति 2020 की दो दिवसीय कार्यशाला का सफलतापूर्वक आयोजन हुआ। इस कार्यशाला में नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड आर्ट्स तथा क्रिएटिव िंकंगडम के समस्त अध्यापक/अध्यापिकाओं ने प्रशिक्षण ग्रहण किया।
कार्यशाला का शुभारम्भ माँ सरस्वती की प्रतिमा पर कार्यशाला की मुख्य वक्ता श्रीमती मीनू भार्गव, डॉ0 श्रेता तिवारी, निदेशिका, नारायण ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स, डॉ0 धर्मेन्द्र शर्मा, प्रधानाचार्य, नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड आर्ट्स, साक्षी सिंह एवं रचना शर्मा, प्रधानाध्यापिका, क्रिएटिव किंगडम के द्वारा माल्यार्पण तथा दीप प्रज्जवलन करके किया गया।
डॉ0 धर्मेन्द्र शर्मा, प्रधानाचार्य, नारायण कॉलेज ऑफ साइंस एण्ड आर्ट्स ने मुख्य वक्ता श्रीमती मीनू भार्गव का स्वागत किया तथा अपने संबोधन में कार्यशाला का उद्देश्य बताते हुए कहा कि वर्तमान समय शिक्षा के क्षेत्र में चुनौती पूर्ण हो चुका है क्योंकि नई पीढ़ी का परिवेश बदल चुका है जिसके कारण छात्र/छात्राओं की सीखने की क्षमता बहुआयामी हो चुकी है। आज की पीढ़ी तकनीकि ज्ञान में आगे है परन्तु मानसिक मूल्यों में पिछड़ती जा रही है ऐसे में शिक्षक/शिक्षिकाओं का ये दायित्व बनता है कि वे नई पीढ़ी के सर्वांगीण विकास को ध्यान में रखते हुए उन्हें शिक्षा दे तथा उनके मानसिक विकास को भी महत्ता दें जिसके लिये नई शिक्षा नीति का प्रशिक्षण अति आवश्यक है।
कार्यक्रम की मुख्य वक्ता श्रीमती मीनू भार्गव ने नई शिक्षा नीति के विभिन्न आयामों का प्रशिक्षण बड़े प्रासंगिक तरीके से शिक्षक/शिक्षिकाओं को दिया जिसमें उन्होंने दीक्षा, परख, निष्ठा, पांचाली, एन0ई0पी, एन0सी0एफ निपुन, स्वयम् आदि की जानकारी तथा प्रशिक्षण विभिन्न गतिविधियों के द्वारा दिया। इसके अतिरिक्त छात्र/छात्राओं के बौद्धिक विकास, उनकी क्षमताओं के आधार पर विकास, उनकी क्षमताओं के आधार पर उनकी सृजनात्मकता को निखारना तथा संवारना उनको चुनौतियों का सामना कैसे करें तथा सफलता का आकलन किस प्रकार करें आदि का सफलतापूर्वक प्रशिक्षण दिया।
कार्यशाला के दूसरे दिन संविधान निर्माता डॉ0 भीमराव अम्बेडकर की जयन्ती के उपलक्ष्य में उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया तत्पश्चात् कम्यूनिकेशन स्किल का प्रशिक्षण दिया गया जिसमें नई पीढ़ी के छात्र/छात्राओं को समझना तथा उन्हें विभिन्न माध्यमों से अपनी बात समझाने का प्रशिक्षण अनूठी गतिविधयों द्वारा दिया गया।
कार्यशाला में अन्त में उन छात्र/छात्राओं की शिक्षा जो किसी कारणवश मुख्य धारा से अलग हो चुके हैं जिनको वीक स्टूडेन्ट्स के रूप में वर्गीकृत किया जाता है कि शिक्षा किस प्रकार होनी चाहिए इस पर भी प्रकाश डाला गया।
इस अवसर पर डॉ0 श्रेता तिवारी, निदेशिका, नारायण ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स ने कहा कि नारायण ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशन्स प्रतिबद्ध है कि वो न सिर्फ छात्र/छात्राओं के सर्वांगीण विकास को ध्यान में रखे बल्कि उनको शिक्षा देने वाले शिक्षक/शिक्षिकाओं के व्यक्तित्व में भी निखार लाये। वे वर्तमान पीढ़ी को समझ सकें तथा वर्तमान शिक्षा नीति के माध्यम से शिक्षा का प्रचार-प्रसार कर सकें। नई शिक्षा नीति पर आधारित इस कार्यशाला के आयोजन से शिक्षक/शिक्षिकाएं प्रशिक्षण लेकर छात्र/छात्राओं की विभिन्न क्षमताओं को उनके विकास में सकारात्मकता के साथ प्रयोग में लायें।
कार्यक्रम के अन्त में प्रधानाचार्य डॉ0 धर्मेन्द्र शर्मा ने मुख्य वक्ता श्रीमती मीनू भार्गव को स्मृति चिन्ह भेंट करके आभार व्यक्त किया।
कार्यक्रम को सफल बनाने में स्कूल को-ऑर्डिनेटर श्रीमती उरूसा रिज़वान, सी0सी0ए0 इन्चार्ज, एंजिल तोमन, कृष्ण गोपाल त्रिवेदी, सौरभ दुबे तथा ऋतु कनौजिया आदि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Leave a Reply

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज

Gold & Silver Price