Bharat News Today

देहदान समाज के लिए महत्वपूर्ण योगदान है -प्रो. डॉ. नित्यानंद श्रीवास्तव चिकित्सा अनुसंधान के लिए देहदान का विशेष महत्व है

सैफई मेडिकल कॉलेज के अनाटॉमी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. डॉ नित्यानंद  श्रीवास्तव

नए उपचार व चिकित्सा तकनीक के विकास में देह दान से मिलती है मदद देहदान अभियान के तहत 64 लोगों ने अब तक कराया पंजीकरण


इटावा (सैंफई) 12 जून 2024 देह दान का विशेष महत्व हमारे पुराणों में भी दिया गया है इस कड़ी में हमेशा सबसे पहला नाम ऋषि दाधिच का आता है इसलिए धार्मिक और वैज्ञानिक दोनों दृष्टिकोण से देहदान समाज के लिए महत्वपूर्ण योगदान है।

सैफई मेडिकल कॉलेज के अनाटॉमी विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. डॉ नित्यानंद  श्रीवास्तव ने बताया कि आज के आधुनिक चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान में देहदान बहुत ही महत्वपूर्ण है उन्होंने बताया कि मानव शरीर की संरचना और कार्य के अध्ययन के लिए वास्तविक मानव शरीर मिल जाता है तो चिकित्सा छात्रों को मानव शरीर की संरचना और विभिन्न रोगों के बारे में गहन जानकारी प्राप्त होती है, इसके अलावा चिकित्सा अनुसंधान में से नई चिकित्सा तकनीकी और उपचारों के विकास में मदद मिलती है।  उन्होंने बताया कि देहदान अभियान के तहत अब तक 64 लोगों ने पंजीकरण कर चुके हैं विभाग द्वारा देहदान के प्रति लोगों को जागरूक करने की पहल भी शुरू की गई है जिससे लोगों को सही और सटीक जानकारी दी जाए।

उन्होंने बताया कि कोई व्यक्ति यदि अपनी देह दान करना चाहता है तो इसके लिए एनाटॉमी विभाग के पंजीकरण कार्यालय से पंजीकरण कराया जा सकता है इस पूरी प्रक्रिया में परिवार की सहमति के साथ फॉर्म भरकर देना होता है।
डॉ श्रीवास्तव ने कहा कि यदि कोई व्यक्ति देहदान करना चाहता है तो वह सैफई मेडिकल कॉलेज के एनाटॉमी विभाग से संपर्क कर सकता है या इस नंबर पर फोन 9758204775 कर जानकारी ले सकता है। उन्होंने कहा कि मैं लोगों से अपील करूंगा देह दान करना एक महान कार्य है और समाज सेवा भी इच्छुक लोग अवश्य आगे आएं जिससे चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधानों के माध्यम से नई-नई तकनीकें विकसित होंगे जिससे मानव रोगों के उपचार में मदद मिलेगी।

Leave a Reply

यह भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज

Gold & Silver Price